You are here:

मौलाना कल्बे जवाद पर अवैध रूप से कब्रें बेचे जाने के मामले में केस दर्ज

UP

वक्फ इमामबाड़ा गुफ़रानमआॅब, लखनऊ में अवैध रूप से लाखों की कब्रें बेचे जाने के मामले में  उ0प्र0 शिया सेण्ट्रल वक्फ बोर्ड द्वारा वक्फ के मुतवल्ली मौलाना कल्बे जवाद नक़वी आदि के विरूद्ध की गयी कार्यवाई में  न्यायालय द्वारा प्रकरण का संज्ञान लिया है और वक्फ इमामबाड़ा गुफरानमआॅब के मुतवल्ली मौलाना कल्बे जवाद आदि लोगों को प्रथम दृष्टयः दोषी मानते हुए शिकायती केस दर्ज  हुआ है। 

गौतलब है कि वक्फ इमामबाड़ा गुफरानमआॅब में 50 हजार से लेकर दो लाख रूपये तक की कब्रें बेची जाती हैं, बोर्ड बोर्ड द्वारा कब्रों की बिक्री पर रोक लगाई जा चुकी है, परन्तु बोर्ड का आदेश न मान कर बोर्ड द्वारा ही वक्फ इमामबाड़ा गुफरानमआॅब (सार्वजनिक वक्फ) में नियुक्त किये गये मुतवल्ली के विरूद्ध इस संबंध में कई शिकायतें एवं साक्ष्य प्राप्त होने पर यह कार्यवाई की गयी थी। जांच में यह भी प्रकाश में आया था कि इसी वक्फ में वक्फ के मुतवल्ली द्वारा वक्फ के खाते से पैसे निकाल कर अपनी निजी संस्था के नाम एक भवन खरीदा गया था। बोर्ड द्वारा पूरे प्रदेश में वक्फ की भूमि पर दी जाने वाली कब्रों के मद में पैसे लिये जाने पर रोक है। 

पूरे प्रदेश में किसी भी वक्फ में कब्रों हेतु वक्फ की जमीन दिये जाने पर कोई भी वक्फ का मुतवल्ली कोई भी धनराशि नहीं लेता है। लेकिन  वक्फ इमामबाड़ा गुफरानमआॅब (सार्वजनिक वक्फ) के मुतवल्ली मौलाना कल्बे जवाद नकवी बोर्ड का आदेश नहीं मानते   हैं और कई वर्षों से लेकर आज तक वक्फ की ज़मीन कब्रों हेतु देने के क्रम में मृतक के घर वालों से दो लाख तक की धनराशि वसूल की जाती है और वक्फ के खाते से मनमाने तरीके से पैसा खर्च किया जाता है। बोर्ड द्वारा पूर्व में कई वक्फों की सूची उ0प्र0 सरकार को सी0बी0आई0 जांच कराये जाने के संबंध में प्राप्त करायी गयी थी जिसमें वक्फ इमामबाड़ा गुफरानमआॅब भी शामिल था परन्तु उस  सूची में शामिल कई ऐसे वक्फ हैं जिनमें काफी असरदार मुवल्ली थे और हैं, इस कारण पूर्व सरकार ने बोर्ड द्वारा किये गये अनुरोध का कोई संज्ञान नहीं लिया। मा0 न्यायालय द्वारा अब इस प्रकरण में संज्ञान ले लिया गया हैं। 

related post