You are here:

मुलायम के बयान के बाद कांग्रेस प्रत्याशियों में मची हलचल

UP Election

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर जहाँ सपा और कांग्रेस के बीच गठबंधन हुआ है वही अब  मुलायम सिंह यादव के बयान के बाद कार्यकर्ताओ को दिया निर्देश भारी पड़ सकती है। मुलायम सिंह यादव ने कार्यकर्ताओ को निर्देश दिया है कि कांग्रेस को दी गई 105 सीटो पर भी समाजवादी कार्यकर्ता अपना नामांकन करे। मुलायम के इस निर्देश के बाद कांग्रेसी कार्यकर्ताओ में हलचल मचा दी है। वैसे पहले कांग्रेस ने रायबरेली और अमेठी में कांग्रेस के प्रत्याशी खड़े करने की घोषणा कर चुके है जबकि समाजवादी पार्टी रायबरेली और अमेठी में अपने प्रत्याशी उतार चुकी है। अब कांग्रेसी प्रत्याशी यह सोचकर परेशान है कि अगर मुलायम की बात मानकर समाजवादी नेता उनके खिलाफ चुनाव लड़ते है तो काफी वोट उनके हिस्से में भी जा सकते है। जिससे गठबंधन के बाद भी जीत सुनिश्चित नहीं है। 

मुलायम ने सोमवार को पार्टी कार्यकर्ताओ को निर्देश दिया है कि हमारे कार्यकर्ताओ ने अपने विधानसभा सीट पर मेहनत की है  और उनका चुनाव लड़ने का हक़ है इसलिए समाजवादी कार्यकर्ता वहां से भी नामांकन करे जहा से कांग्रेस प्रत्याशी घोषित कर चुकी है। मुलायम ने कहा समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस से लड़कर मुस्लिम मतदाताओ का भरोसा जीता है। सपा को डर है कि कही गठबंधन से उसका मुस्लिम मतदाता कांग्रेस की ओर न चला जाये। मुलायम सिंह का मानना है कि गठबंधन से कांग्रेस को दीर्घकालिक फायदा होगा जो समाजवादी पार्टी के लिए ठीक नहीं है। मुलायम सिंह यादव ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि वो गठबंधन के लिए कोई भी प्रचार नहीं करेंगे। 

बगावती सुर कांग्रेस में भी सुनाई दे रहे है। ३१० बस्ती सदर सीट का हाल है जहाँ कभी भी समाजवादी पार्टी नहीं जीती, सभी चुनाव में  समाजवादी प्रत्याशी चौथे पाचवे नंबर पर रहे है। फिर भी इस सीट पर समाजवादी पार्टी ने महेंद्र नाथ यादव को मैदान में उतार दिया है। इस सीट पर पहले कांग्रेस पहले ही अंकुर वर्मा को प्रत्याशी बना चुकी है। अब गठबंधन के बाद टिकट न मिलने से नाराज अंकुर वर्मा कांग्रेस छोड़ सकते है। 

related post