You are here:

रंजिश में खून की होली,मां बेटे की हत्या।

UP

बाराबंकी। जर जोरू जमीन की रंजिश में एक घर मे खून की होली खेली गई। ताबड़तोड़ रॉड जैसे हथियारों के वार से पति पत्नी व उनकी तीन संतानों को खून से लथपथ कर दिया गया। महिला व उसके 6 साल के बेटे ने तड़प कर वही दम तोड़ दिया। जबकि अन्य का उपचार लखनऊ में चल रहा है। पुलिस हत्या के सभी संभावित कारणों पर तफ्तीश कर रही है।मृतका के भाई राजेश ने अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। ये सनसनीखेज वारदात सफदरगंज थाना क्षेत्र के ग्राम लक्षबर बजहा में हुई है। यहॉ गुरुदीन रावत पत्नी कविता बेटे शुभम,सिद्धांत व 3 माह के मासूम अमन के साथ रहता था। गुरुवार को गुरुदीन का भतीजा प्रद्युम्न एक शादी में गया था। देर रात जब वह घर लौटा तो अंदर का नजारा देख उसके होश उड़ गए अंदर हर तरफ खून फैला था और चाचा गुरुदीन चाची कविता और सभी बच्चे लहूलुहान जमीन पर पड़े थे। बदहवास हुए प्रद्युम्न की चीखें सुनकर पहले ग्रामीण जमा हो गए फिर सूचना पाकर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। कविता और उसके 6 साल के बेटे शुभम की सांसें थम चुकी थी। गुरुदीन मासूम अमन और सिद्धांत मौत से लड़ रहे थे। तीनो को पहले जिला अस्पताल फिर लखनऊ भेज दिया गया। गुरुदीन के अतीत पर नजर डालें तो पता चलता है कि मसौली के फतापूर्वा का रहने वाला था। लगभग 8 साल पहले उसकी पत्नी की मौत हो गई। इसी के बाद वह इसी गांव की लड़की कविता के साथ पहली पत्नी के मायके यानी लक्षबर बजहा में रहने लगा। कविता से ही उसे तीनों संताने मिली। फिलहाल बताया जा रहा है कि वारदात वाली रात की शाम कुछ लोग उसके घर आये थे। इसकी गवाही घटनास्थल बना, घर मे ही जमकर शराब पी गई। वहां उल्टियों के निशान भी मिले। शायद ये हमला तब किया गया जब गुरुदीन नशे में धुत हो गया। चोटे किसी रॉड जैसे हथियार की लग रही थी। हमलावर किसी भी कीमत पर कविता को जिंदा नही छोड़ना चाहते थे उसकी लाश की हालत ऐसी ही थी। बताते है कि गुरुदीन ने अभी हाल ही में जमीन का भी सौदा किया था। पुलिस का कहना है कि शराब पीने से लगता है कि हमलावर परिवार का परिचित है। हत्या का कारण दूसरी पत्नी या जमीन का सौदा है या कुछ और जांच की जा रही है । संभावित स्थानों पर छापे मारे जा रहे है। मुकदमा कविता के भाई की ओर से धारा 307/302 के तहत दर्ज किया गया है।

related post