You are here:

कोरोना के बीच जयपुर से पहुँचा भगवान राम का चांदी का सिंहासन।

National

कोरोना वायरस से बचाव के लिए राम नगरी में भक्तों के प्रवेश पर लगी रोक के बीच श्री राम जन्मभूमि परिसर में विराजमान रामलला को नए मंदिर में शिफ्ट करने की तैयारी सोमवार को सुबह 7:30 बजे शुरू हो गई। अयोध्या राजघराने ने नए घर में रामलला को विराजमान करने के लिए चांदी का सिंहासन भेंट किया गया है। ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय इसकी घोषणा दोपहर बाद करेंगे। साथ ही रामलला के नए मंदिर के साथ रामलला का ताजा फोटोग्राफ्स भी शेयर कर सकते हैं। दिल्ली से आए प्रमुख आचार्य डॉ कृति कांत के नेतृत्व में दिल्ली, अयोध्या और काशी के 15 आचार्यों की टीम ने सोमवार को उदक शांति पूजा से अनुष्ठान का शुरूआत किया है। इसके पहले आचार्यों के टीम को रविवार रात 9 बजे श्री राम जन्मभूमि ले जाया गया, जहां उन्हें विराजमान रामलला और नए मंदिर निर्माण स्थल को दिखाया गया। आचार्यों ने सोमवार से शुरू होने वाली पूजा का खाका खींचा। इसके बाद सोमवार सुबह 7:30 बजे दिल्ली से आए मुख्य आचार्य श्रीकांत के नेतृत्व में नदियों के पवित्र जल से भरे हुए कलश और पूजन सामग्री, फल-फूल आदि के साथ पीले वस्त्र धारण करके कुल 15 आचार्य रामलला परिसर में दाखिल हुए। आचार्यों की टीम में विश्व हिंदू परिषद के संत संपर्क प्रमुख पंडित अशोक तिवारी और संयुक्त महामंत्री कोटेश्वर जी भी शामिल हैं, यह दोनों वैदिक पूजा पद्धति के दक्ष माने जाते हैं। श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सूत्रों के मुताबिक रामलला को नए घर में विराजमान करने के लिए जयपुर के राजघराने से बड़ा सा चांदी का सिंहासन भेंट किया गया है, इस पर रामलला समेत चारों भाई विराजमान होंगे। साभार au

related post